About us

5 संतों को राज्यमंत्री का दर्जा देने के बाद चौतरफा आलोचना झेल रही शिवराज सरकार पर अब कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने निशाना साधा

0

मध्यप्रदेश में 5 संतों को राज्यमंत्री का दर्जा देने के बाद चौतरफा आलोचना झेल रही शिवराज सरकार पर अब कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने निशाना साधा है। उन्होंने इस मामले में एक ट्वीट कर शिवराज सरकार को घेरा है। राहुल गांधी ने अपने ट्वीट में लिखा है – ‘बाबा कहते थे बड़ा काम करुंगा, नर्मदा घोटाला नाकाम करुंगा, मगर यह तो मामा ही जाने, अब इनकी मंजिल हैं कहां। मध्यप्रदेश, कयामत से कयामत तक।’ इसके पहले कांग्रेस ने यह आरोप लगाया था कि ये वे संत हैं, जो मध्यप्रदेश में नर्मदा घोटाला उजागर करने वाले थे। वह घोटाले को उजगार न करें, इसलिए उन्हें राज्यमंत्री का दर्जा दिया गया है।

ये संत बनाए गए हैं दर्जा राज्यमंत्री

-बता दें कि मध्यप्रदेश सरकार ने कम्प्यूटर बाबा, पंडित योगेंद्र महंत, स्वामी नर्मदानंदजी, स्वामी हरिहरानंदजी और गृहस्थ संत भय्यूजी महाराज को राज्यमंत्री का दर्जा दिया था। इनमें से कम्प्यूटर बाबा और पं योगेंद्र महंत ने नर्मदा घोटाला उजागर करने की घोषणा की थी। वे इस यात्रा को निकालने के लिए पूरी तैयारी भी कर चुके थे।

राज्यमंत्री का दर्जा मिलते ही बदला सुर

-राज्यमंत्री का दर्जा मिलते ही कम्प्युटर बाबा के सुर बदल गए। अब वे घाटों पर जनजागरण करने की बात कहने लगे हैं। बाबाओं का तर्क है कि यदि हम राज्यमंत्री का दर्जा नहीं स्वीकारते तो नर्मदा संरक्षण का काम कैसे आगे बढ़ाते। अब हम कलेक्टरों से अधिकारपूर्वक बात करेंगे। शिवराज सरकार ने नर्मदा के संरक्षण के लिए एक बेहतर काम किया है। उन्होंने संरक्षण समिति में हमें रखा है, जिसके तहत राज्यमंत्री का दर्जा दिया गया है।

इंदौर में बाबाओं ने यह किया था ऐलान

-संत समाज की बैठक इंदौर के गोम्मटगिरि स्थित मां कालिका आश्रम में 28 मार्च को हुई थी। इसमें तय हुआ था कि 1 अप्रैल से 15 मई तक नर्मदा घोटाला रथ यात्रा निकाली जाए। इस रथयात्रा के नेतृत्व कंप्यूटर बाबा करेंगे, जबकि आयोजक पंडित योगेंद्र महंत होंगे। महंत ने यह ऐलान किया था कि नर्मदा घोटाले पर हुए महाघोटाले का खुलासा करने के लिए रथ यात्रा निकाली जाएगी। साथ ही भोपाल सचिवालय में संत धरना देंगे। इसके बाद 31 मार्च को सीएम शिवराज के साथ सीएम हाउस में कम्प्युटर बाबा की मुलाकात हुई थी।

संतों को मिला इन सुविधाओं का लाभ

-7500 रुपए मासिक वेतन मिलेगा।

-गाड़ी और 1000 किमी का डीजल।

-15000 रुपए मकान का किराया।

-3000 रु. सत्कार भत्ता।

 -स्टाफ मिलेगा, अपना पीए रख सकेंगे।
Share.

About Author

Leave A Reply